Kendriya Vidyalayas in Chhattisgarh छत्तीसगढ़ में केंद्रीय विद्यालय

HomeKendriya Vidyalaya Sangathan

Kendriya Vidyalayas in Chhattisgarh छत्तीसगढ़ में केंद्रीय विद्यालय

Kendriya Vidyalayas in Chhattisgarh छत्तीसगढ़ में केंद्रीय विद्यालय. Whether the Government has received any proposal to start new KVs in Bilaspur, Mu

Interest rate on Education Loan : Lok Sabha Q&A
CBSE: SOP for dealing with students having attendance less than the prescribed percentage of attendance
CBSE proposes to Introduce an open book examination in class 9th and 10th from March ,2014

Kendriya Vidyalayas in Chhattisgarh छत्तीसगढ़ में केंद्रीय विद्यालय. Whether the Government has received any proposal to start new KVs in Bilaspur, Mungeli, Gaurela-pendra Marwahi district of Chhattisgarh State?

GOVERNMENT OF INDIA
MINISTRY OF EDUCATION
DEPARTMENT OF SCHOOL EDUCATION & LITERACY

LOK SABHA

UNSTARRED QUESTION NO. 1864
TO BE ANSWERED ON 14.03.2022

KENDRIYA VIDYALAYAS IN CHHATTISGARH

+1864. SHRI ARUN SAO:
Will the Minister of EDUCATION be pleased to state:

(a) whether the Government proposes to establish new Kendriya Vidyalayas in the country and if so, the details thereof including the State of Chhattisgarh, State-wise/Region-wise/district-wise;

(b) the number of such districts in Chhattisgarh State where the KVs are running at present;

(C) whether the Government has received any proposal to start new KVs in Bilaspur, Mungeli, Gaurela-pendra Marwahi district of Chhattisgarh State;

(d) if so, the details thereof; and

(e) the time by when the Government proposes to start such KVs?

ANSWER

MINISTER OF STATE IN THE MINISTRY OF EDUCATION
(SMT. ANNPURNA DEVI)

(a) Opening of new Kendriya Vidyalayas (KVs) is a continuous process. KVs are opened primarily to cater to the educational needs of the wards of transferable Central Government Employees including Defence & Para-Military personnel, Central Autonomous Bodies, Central Public Sector Undertakings (PSUs) and Central Institute of Higher Learning (IHL) by providing a common programme of education throughout the country. Proposals for opening of new KVs are considered only if sponsored by Ministries or Departments of the Government of India / State Governments / Union Territories (UTs) Administrations and committing resources for setting up a new KV. The proposals received from various sponsoring authorities found fulfilling the mandatory pre-requisites for opening of new KVs have to compete with other such proposals under the “Challenge Method” and subject to approval of the competent authority.

(b) At present, 36 KVs are functioning in 20 districts of Chhattisgarh.

(c) to (e) Proposal for opening of a new KV in Mungeli, Chhattisgarh has been found fulfilling the mandatory pre-requisites as per norms of Kendriya Vidyalaya Sangathan (KVS). Proposal for opening of a new KV in Bilaspur district has been received by KVS. There are some discrepancies / deficiencies in the proposal which have been brought to the notice of district Administration, Bilaspur by KVS for necessary rectification. Further, KVS has not received any proposal in the prescribed proforma for opening of a new KV at Gaurela-pendra-Marwahi district from the State Government of Chhattisgarh.

भारत सरकार
शिक्षा मंत्रालय
स्कूल शिक्षा और साक्षरता विभाग
लोक सभा

अतारांकित प्रश्न संख्या: 1864
उत्तर देने की तारीख: 14.03.2022

छत्तीसगढ़ में केंद्रीय विद्यालय

11864. श्री अरूण साव:
क्या शिक्षा मंत्री यह बताने की कृपा करेंगे कि:

(क) क्‍या सरकार का देश में नए केंद्रीय विद्यालय खोलने को विचार है और यदि हां, तो छत्तीसगढ़ राज्य सहित तत्संबंधी राज्यक्षेत्र/जिला-वार ब्यौरा क्‍या है;

(ख) छत्तीसगढ़ राज्य में ऐसे जिलों की संख्या कितनी है जहां वर्तमान में केंद्रीय विद्यालय चल रहे हैं;

(ग) क्‍या सरकार को छत्तीसगढ़ राज्य के बिलासपुर, मुंगेली, गौरेला-पेंड्रा मारवाही जिलों में नए केंद्रीय विद्यालय शुरू करने संबंधी कोई प्रस्ताव प्राप्त हुआ है;

(घ) यदि हां, तो तत्संबंधी ब्यौरा कया है; और

(ड.) सरकार का ऐसे केंद्रीय विद्यालय कब तक शुरू करने का विचार है?

kendriya-vidyalayas-in-chhattisgarh

उत्तर

शिक्षा मंत्रालय में राज्य मंत्री
(श्रीमती अन्नपूर्णा देवी)

(क) नए केन्द्रीय विद्यालय (केवि) खोलना एक सतत प्रक्रिया है। केवि पूरे देश में शिक्षा का एकसमान कार्यक्रम प्रदान करने हेतु मुख्य रूप से रक्षा और अर्ध-सैन्य कर्मियों, केंद्रीय स्वायत्त निकायों, केंद्रीय सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों (पीएसयू) और
केंद्रीय उच्च शिक्षा संस्थान (आईएचएल) सहित केंद्र सरकार के स्थानांतरणीय कर्मचारियों के बच्चों की शैक्षिक जरूरतों को पूरा करने के लिए खोले जाते हैं। नए केवी खोलने के प्रस्तावों पर तभी विचार किया जाता है जब भारत सरकार के मंत्रालयों या विभागों/राज्य सरकारों/संघ राज्य क्षेत्रों (यूटी) प्रशासनों दूवारा प्रायोजित किया जाता है और एक नया केवि स्थापित करने के लिए संसाधनों की प्रतिबद्धता की जाती है। नए केवि खोलने के लिए अनिवार्य पूर्व-आवश्यकताओं को पूरा करने  वाले विभिन्‍न प्रायोजक प्राधिकरणों से प्राप्त प्रस्तावों को “चुनौती पद्धति” के तहत ऐसे अन्य प्रस्तावों के साथ प्रतिस्पर्धी करनी होगी और यह सक्षम प्राधिकारी के अनुमोदन के अधीन है।

(ख) वर्तमान में छत्तीसगढ़ के 20 जिलों में 36 केवि कार्यरत हैं।

(ग) से (ड): मुंगेली, छत्तीसगढ़ में एक नया केवि खोलने का प्रस्ताव केन्द्रीय विद्यालय संगठन (केविसं) के मानदंडों के अनुसार अनिवार्य पूर्व-आवश्यकताओं को  पूरा करता पाया गया है। बिलासपुर जिले में नया केवि खोलने का प्रस्ताव केविसं को प्राप्त हो गया है। प्रस्ताव में कुछ विसंगतियां/कमियां हैं जिन्हें आवश्यक सुधार के लिए केविसं द्वारा जिला प्रशासन, बिलासपुर के संज्ञान में लाया गया है। इसके अलावा, केविसं को छत्तीसगढ़ राज्य सरकार से गौरेला-पेंड्रामरवाही जिले में एक नया केवि खोलने के लिए निर्धारित प्रोफार्मा में कोई प्रस्ताव प्राप्त नहीं हुआ है।

Source: Lok Sabha PDF View/Download

COMMENTS

WORDPRESS: 0